Guy de Maupassant
गाय दी मोपासां

गाय दी मोपासां (५ अगस्त, १८५०- ६ जुलाई, १८९३), निर्विवाद रूप से फ्रांस के सबसे महान कथाकार हैं। वे प्रकृतिवादी विचारधारा से प्रभावित थे। वे जब ग्यारह वर्ष के थे तभी उनके माता-पिता अलग हो गए थे। उनकी प्रारंभिक शिक्षा धार्मिक स्कूलों में हुई जिससे उन्हें चिढ़ थी। उन्होंने फ्रांस और जर्मनी के युद्ध में भाग लिया, अलग अलग नौकरियाँ कीं और पत्रों में स्तंभ लिखे। इनकी प्रथम कहानी संग्रह बाल ऑप फैट थी जिसके प्रकाशित होते ही ये प्रसिद्ध हो गए। १८८० से १८९१ तक का समय इनके जीवन का सबसे महत्पूर्ण काल था। इन ११ वर्षों में मोपांसा के लगभग ३०० कहानियाँ, ६ उपन्यास, ३ यात्रा संस्मरण एवं एक कविता संग्रह प्रकाशित हुए। युद्ध कृषक जीवन, स्त्री पुरुष संबंध, आभिजात्य वर्ग और मनुष्य की भावनात्मक समस्याएँ मोपासां की रचनाओं की विषय-वस्तु बने।

गाय दी मोपासां : कहानियाँ हिन्दी में

Guy de Maupassant Stories in Hindi

  • हीरों का हार (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • चाचा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • बच्चा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • अतीत नृत्य (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • एक पागल की डायरी (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • शवदाह (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • स्वप्न ? (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • खेतों में (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • नमक इश्क का (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • साया (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • नकली गहने (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • युक्ति (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • पितृहत्या (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • चर्बी की गुड़िया (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • रस्सी का टुकड़ा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • छोटा पीपा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • वह ? (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • दो दोस्त (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • सपने (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • एक परिवार (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • माँ और बेटा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • मैडम बैपटिस्ट (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • व्यर्थ सौंदर्य (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • नए साल का तोहफा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • पिता (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • चोर (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • शादी की रात (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • अवशेष (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • लाभ का धंधा (कहानी) : गाय दी मोपासां
  • अशुभ प्रेमी (कहानी) : गाय दी मोपासां