Sutsom-Jataka Katha

सुतसोम-जातक कथा

एक राज्य में सुतसोम नाम का एक दान-शील-सम्पन्न राजकुमार का जन्म हुआ । बड़ा होने पर एक बार वह राजकुमार अपनी पत्नियों और अनुचरों के साथ एक बाग में बैठा संगीत का आनंद ले रहा था। तभी नंद नामक एक बौद्ध सन्यास उसके पास पहुँचे। बौद्ध सन्यास को सादर बैठाकर वह उनसे उपदेश ग्रहण करने लगा। तभी कलमसपदास नामत एक वहशी व्यक्ति वहाँ पहुँचा। वह एक युद्धखोर राजा का पुत्र था। और मानव-हत्या उसे बहुत प्रिय था। वह सुतसोम को भी पकड़ कर ले गया।

सुतसोम को जब उसने कारागृह में रोते देखा तो उसने उसका मज़ाक उड़ाते हुए कहा, "मृत्यु से सभी भयभीत हो जाते हैं !" सुतसोम ने तब उसे बताया कि वह मृत्यु से भयभीत नहीं था ; बल्कि एक श्रेष्ठ बौद्ध सन्यास के वचनों से वंचित रहने के कारण दु:खी था। सुतसोम ने तब कलमसपदास से दो दिनों मांगा ताकि वह बौद्ध सन्यास नन्द के पूर्ण उपदेश ग्रहण कर सके। सिंह-पुरुष ने उसे दो दिन का समय दे दिया।

बौद्ध सन्यास के उपदेश सुनने के बाद सुतसोम जब कलमसपदास के पास वापिस लौट आया तो कलमसपदास चकित रह गया और उसपर प्रसन्नता प्रकट करते हुए उसे वर मांगने को कहा । सुतसोम ने तब उससे कहा कि जो व्यक्ति स्वयं अपनी आकांक्षाओं और तृष्णा का दास हो, वह दूसरों को कैसी मुक्ति और कैसा वरदान दे सकता है ?

सुतसोम के वचन सुनकर सिंह-पुरुष की आँखें खुल गयी और उसका सोया हुआ मनुष्यत्व भी जाग गया । उसने सुतसोम को छोड़ दिया और उसके साथ मिलकर अपने पिता सुदास का राज्य भी फिर से वापिस प्राप्त कर लिया । उसने फिर कभी मानव-हत्या नहीं की।

 
 
 Hindi Kavita