महादेवी वर्मा
Mahadevi Verma
 Hindi Kavita 

महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा (जन्म: २६ मार्च, १९०७, फरुक्खाबाद - निधन: ११ सितम्बर, १९८७, प्रयाग) हिंदी बोली की मशहूर कवित्री हैं। उन्होंने गद्य, काव्य, शिक्षा और चित्रकला सभी क्षेत्रों में नए आयाम स्थापित किये। महादेवी वर्मा की गणना हिंदी कविता के छायावादी युग के चार प्रमुख कवियों सुमित्रानन्दन पंत, जय शंकर प्रसाद और सूर्याकांत त्रिपाठी निराला के साथ की जाती है। आधुनिक हिंदी कविता में महादेवी वर्मा एक महत्वपूर्ण शक्ति के रूप में उभरी। उन्होंने खड़ी बोली हिंदी का कोमलता और मिठास के तौर पर प्रयोग किया। वह महात्मा बुद्ध के जीवन से बहुत प्रभावित थीं। उन की काव्य रचनायों में नीहार, रश्मि, नीरजा, सांध्यगीत, दीपशिखा, अग्निरेखा, प्रथम आयाम, सप्तपर्णा, यामा, आत्मिका, दीपगीत, नीलामम्बरा और सन्धिनी शामिल हैं। उनकी गद्य कृतियां : मेरा परिवार, स्मृति की रेखाएं, पथ के साथी, शृंखला की कड़ियाँ और अतीत के चलचित्र हैं।


महादेवी वर्मा हिन्दी कहानियाँ और गद्य कृतियां

गौरा गाय
भक्तिन
बिबिया
बिंदा
वह चीनी भाई
सोना हिरनी
दुर्मुख-खरगोश
नीलकंठ : मोर
निक्की, रोजी और रानी
दो फूल
गिल्लू
रामा
नीलू कुत्ता
घीसा
सुभद्रा
प्रणाम (रवीन्द्र ठाकुर)
दद्दा (मैथिलीशरण गुप्त)
स्मरण प्रेमचंद
अपनी बात (अतीत के चल-चित्र)
अपनी बात (रेखाचित्र)
दो शब्द (पथ के साथी)
आत्मकथ्य (संस्मरण)
निराला भाई/जो रेखाएँ न कह सकेंगी

Hindi Stories and Prose Mahadevi Verma

Biography Mahadevi Verma
Gaura Gaaye Mahadevi Verma
Bhaktin Mahadevi Verma
Bibiya Mahadevi Verma
Binda Mahadevi Verma
Vah Chini Bhai Mahadevi Verma
Sona Hirni Mahadevi Verma
Durmukh Khargosh Mahadevi Verma
Neelkanth : Mor Mahadevi Verma
Nikki Rosy Aur Rani Mahadevi Verma
Do Phool Mahadevi Verma
Gillu Mahadevi Verma
Rama Mahadevi Verma
Neelu Kutta Mahadevi Verma
Gheesa Mahadevi Verma
Subhadra Mahadevi Verma
Pranam Ravindra Thakur Mahadevi Verma
Dadda Mahadevi Verma
Smaran Premchand Mahadevi Verma
Apni Baat (Ateet Ke Chalchitra) Mahadevi Verma
Apni Baat (Rekha Chitra) Mahadevi Verma
Do Shabd (Path Ke Sathi) Mahadevi Verma
Aatamkathya (Sansmaran) Mahadevi Verma
Nirala Bhai Mahadevi Verma
 
 
 Hindi Kavita