Aesop's Fables in Hindi
ईसप की कहानियाँ

ईसप (६२० ईसा पूर्व–५६४ ईसा पूर्व) प्राचीन एथेंस के कहानीकार थे। ये कई कहनियों के रचनाकार माने जाते हैं। इन कहनियों को एसोप की कहनियाँ या अंग्रेजी में ईसप फेबल्ज़ (Aesop's Fables) के नाम से जाना जाता है। ईसप जनप्रिय नीतिकथाकार। इनकी कथाओं के पात्र मनुष्य की अपेक्षा पशु पक्षी अधिक हैं। ईसप की कथाएँ पंचतंत्र की कथाओं के समान मनोरंजन के साथ नीति और व्यवहारकुशलता की शिक्षा देती हैं। यत्रतत्र इनमें हास-परिहास का भी पुट पाया जाता है। जातक कथाओं के साथ भी इनका पर्याप्त साम्य पाया जाता है। कुछ लेखक भारतीय कथाओं को ही ईसप की कथाओं का आधार मानते हैं, अन्य आलोचक इस मत को नहीं मानते। ईसप की कथाओं का अनुवाद हिंदी, संस्कृत एवं अन्य भारतीय भाषाओं में भी हो चुका है।

  • आलसी गधा : ईसप की कहानी
  • अंगूर खट्टे हैं : ईसप की कहानी
  • उत्तरी हवा और सूरज : ईसप की कहानी
  • खरगोश और कछुआ : ईसप की कहानी
  • छिपा हुआ धन : ईसप की कहानी
  • नांद में कुत्ता : ईसप की कहानी
  • प्यासा कौआ : ईसप की कहानी
  • बिल्ली के गले में घंटी : ईसप की कहानी
  • बूढ़ा शिकारी कुत्ता : ईसप की कहानी
  • भेड़िया आया ! : ईसप की कहानी
  • भेड़िया और सिंह : ईसप की कहानी
  • लालची कुत्ता : ईसप की कहानी
  • शान्ति और सुरक्षा : ईसप की कहानी
  • सियार और मेमना : ईसप की कहानी
  • हर चमकती चीज सोना नहीं होती : ईसप की कहानी
  • दो घड़े : ईसप की कहानी
  • लोमड़ी और कौआ : ईसप की कहानी
  • लोमड़ी और सारस : ईसप की कहानी
  • मेंढक और बैल : ईसप की कहानी
  • सूअर और भेड़ : ईसप की कहानी
  • चींटी और टिड्डा : ईसप की कहानी
  • मूर्ख ज्योतिषी : ईसप की कहानी